भारत वापस आ रही कंपनियां, Boat के को-फाउंडर अमन गुप्ता ने ‘घर वापसी’ का किया स्वागत

ViralUnzip
3 Min Read

इंडियन बिजनेस लैंडस्केप में एक महत्वपूर्ण बदलाव को बोट के को-फाउंडर अमन गुप्ता ने उजागर किया। उन्होंने अलग-अलग सेक्टरों में हो रहे ‘घर वापसी’ का जिक्र किया, जहां कई कंपनियां और स्टार्टअप मैन्युफैक्चरिंग एंड ऑपरेशन्स के लिए भारत लौट रहे हैं। सीएनबीसी के साथ टीवी इंटरव्यू में अमन गुप्ता ने जोर देकर कहा कि बिल्कुल, लोकल मैन्युफैक्चरिंग की ओर अधिक जोर दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले दशकों में भारत से मैन्युफैक्चरिंग के बाहर जाने का ट्रेंड अब उलट रहा है। यह कभी नहीं सोचा था कि हम जैसी कंपनियां और ब्रांड कभी भारत में निर्माण करना चाहेंगे।

‘घर वापसी’ को देखकर अच्छा लगा

अमन गुप्ता ने बताया कि कई भारतीय स्टार्टअप (जो पहले विदेशों में रजिस्टर्ड थी), अब भारत में अपना आधार फिर से स्थापित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बहुत सी चीजों के लिए हो रहे इस ‘घर वापसी’ को देखकर अच्छा लगा। उन्होंने इस बदलाव में सरकार के जरिए निभाई गई सहायक भूमिका को स्वीकार किया। अमन ने कहा, “स्टार्टअप को बढ़ने के लिए सरकार की मदद की जरूरत होती है। यह अतीत में हुआ है और मुझे उम्मीद है कि यह जारी रहेगा।”

विकसित भारत का लक्ष्य

व्यापक आर्थिक लक्ष्यों पर विचार करते हुए, अमन गुप्ता ने सवाल किया कि भारत 2047 तक “विकसित भारत” बनने का अपना लक्ष्य कैसे हासिल करेगा और इस मील के पत्थर की ओर राष्ट्र का मार्गदर्शन करने के लिए कौन सही नेता होगा। उन्होंने विकसित हो रहे स्टार्टअप क्रांति और मेक इन इंडिया पहल की प्रगति पर चर्चा की, जो उनके मतदान के फैसलों पर विचार करते हुए उनके दिमाग में महत्वपूर्ण मुद्दे थे।

अमन का सरकार से आग्रह

अमन ने व्यापार करने की सुगमता में और सुधार की मांग भी की। उन्होंने आग्रह किया कि सरकार को हमें यह समझने में मदद करनी चाहिए कि हम अपने ब्रांड को भारत के बाहर कैसे ले जा सकते हैं। हमने मेक इन इंडिया को पूरा कर लिया है, अब दुनिया के लिए बनाने का समय है और इसके लिए हमें सरकार की मदद की आवश्यकता होगी। उनके कमेंट इंडियन बिजनेस कम्युनिटी के भीतर एक व्यापक भावना को रेखांकित करती हैं, जो लोकल मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ाने और इंडियन ब्रांड्स को ग्लोबल लेवल पर कम्पटीशन करने में सक्षम बनाने के लिए सरकार से अधिक सपोर्ट की वकालत करती हैं।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *