PPF में निवेश कर आप तैयार कर सकते हैं 1 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का फंड

ViralUnzip
3 Min Read

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) में निवेश करना लॉन्ग टर्म में इनफ्लेशन से निपटने का भरोसेमंद तरीका है। इसमें नियमित तौर पर निवेश कर आप 1 करोड़ रुपये से ज्यादा इकट्ठा कर सकते हैं। हम आपको यहां बता रहे हैं कि इस वित्तीय लक्ष्य को कैसे हासिल किया जा सकता है।

PPF को जानें

PPF एक सरकारी सेविंग स्कीम है, जिसका मकसद लॉन्ग टर्म इनवेस्टमेंट को बढ़ावा देना है। सरकार तिमाही आधार पर इस स्कीम की ब्याज दर की समीक्षा करती है और मौजूदा तिमाही के लिए यह दर 7.1 पर्सेंट है। इस स्कीम पर टैक्स में छूट भी मिलती है। इसके निवेश, ब्याज, मैच्योरिटी से जुड़ी रकम आदि सभी टैक्स फ्री हैं।

चक्रवृद्धि ब्याज का फायदा

PPF में रिटर्न की अहमियत चक्रवृद्धि ब्याज से भी जुड़ी है। नियमित तौर पर निवेश और इस पर चक्रवृद्धि ब्याज की सुविधा से आपका निवेश तेजी से बढ़ता है। एक अनुमान के मुताबिक, अगर आप 15 साल तक 1.5 साल रुपये सालाना के हिसाब से निवेश करेंगे, तो इस आपको कुल 18.18 लाख ब्याज मिलेगा और आपको कुल रकम के तौर पर 40.68 लाख मिल सकता है। साथ ही, 20 साल तक 1.5 लाख रुपये सालाना निवेश करने पर आपको 36.58 लाख रुपये का ब्याज मिलेगा, जबकि मैच्योरिटी वैल्यू 66.58 लाख रुपये हो सकती है। अगर आप 30 साल तक 1.5 लाख रुपये निवेश करेंगे, तो आपको कुल 1.54 करोड़ रुपये तक की रकम मिल सकती है।

यह आकलन क्लियर टैक्स के अनुमानों पर आधारित है। आपको ऑनलाइन कई और कैलकुलेटर मिल जाएंगे, जिससे आपको अपने रिटर्न का आकलन करने में मदद मिल सकती है।

PPF के फायदे

टैक्स बेनिफिट्स: अगर आप PPF में निवेश करते हैं, तो इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक की छूट मिल सकती है।

टैक्स-फ्री रिटर्न: इस निवेश पर मिलने वाला ब्याज और परिपक्वता राशि पूरी तरह से टैक्स फ्री है।

सुरक्षित निवेश: PPF सरकारी स्कीम है, लिहाजा यह निवेश का सुरक्षित विकल्प है।

PPF के जरिये करोड़पति बनने के लिए धैर्य और अनुशासन की जरूरत होती है। अगर आप लंबे समय तक अधिकतम राशि निवेश करते हैं और एकाउंट एक्सटेंशन का बेहतर तरीके से इस्तेमाल करते हैं, तो आप इस स्कीम की सुविधा का लाभ उठाकर अपने वित्तीय लक्ष्यों को हासिल कर सकते हैं।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *