‘PM बनने का इरादा नहीं है अगर…’: जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद अरविंद केजरीवाल का पहला इंटरव्यू

ViralUnzip
6 Min Read

Lok Sabha Elections 2024: आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार (23 मई) को कहा कि अगर लोकसभा चुनाव में I.N.D.I.A. गठबंधन जीतता है तो देश का अगला प्रधानमंत्री बनने का उनका कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य देश और लोकतंत्र को मौजूदा तानाशाही से बचाना है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के साथ एक इंटरव्यू में AAP के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने यह आरोप भी लगाया कि यदि भारतीय जनता पार्टी (BJP) सत्ता में वापस आई तो सभी विपक्षी नेताओं को जेल में डाल दिया जाएगा और यह चुनाव को हाईजैक कर लेगी।

अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए विपक्षी I.N.D.I.A. गठबंधन के उम्मीदवार के बारे में फैसला चार जून को लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि विपक्षी गठबंधन इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस (I.N.D.I.A.) धीरे-धीरे 300 के आंकड़े की ओर बढ़ रहा है। केजरीवाल ने कहा, “वह अपने दम पर सरकार बनाएगा। गठबंधन एक अच्छी, स्थिर सरकार देगा।”

क्या राहुल गांधी को पीएम स्वीकार करेंगे?

यह पूछे जाने पर कि कया वह खुद को I.N.D.I.A. गठबंधन का प्रधानमंत्री पद का चेहरा मानते हैं, केजरीवाल ने कहा, “मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं है। हम (AAP) एक बहुत छोटी पार्टी हैं जो केवल 22 सीट पर चुनाव लड़ रही है।” इस सवाल पर कि क्या वह राहुल गांधी को देश के प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार करेंगे, केजरीवाल ने कहा, “ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई है। यह एक सैद्धांतिक सवाल है। जब हम साथ बैठेंगे तो इस पर चर्चा करेंगे।”

BJP का नाम लिए बिना दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ”यह लोकसभा चुनाव देश और लोकतंत्र को मौजूदा तानाशाही से बचाने के लिए है।” उन्होंने आशंका जताई कि अगर बीजेपी सत्ता में वापस आई तो लोकतंत्र खत्म कर देगी। केजरीवाल ने कहा, “चुनाव नहीं होंगे और अगर होंगे भी तो रूस की तरह ही होंगे। पुतिन ने या तो पूरे विपक्ष को जेल भेज दिया या उन्हें ख़त्म कर दिया और फिर चुनाव कराए तथा 87 फीसदी वोट हासिल किए।”

उन्होंने अपनी बात समझाने के लिए पाकिस्तान का उदाहरण भी दिया। केजरीवाल ने कहा, ”पाकिस्तान में इमरान खान को जेल भेज दिया गया और उनकी पार्टी तथा चुनाव चिह्न छीन लिया गया।” AAP संयोजक ने कहा, “वे (BJP) भी ऐसा करेंगे… AAP (नेताओं) को जेल भेजेंगे, ममता बनर्जी को जेल भेजेंगे। किसी को नहीं छोड़ा जाएगा। सभी जेल में होंगे और फिर वे चुनाव जीतते रहेंगे।”

कौन है पीएम का चेहरा?

I.N.D.I.A. गठबंधन की ओर से प्रधानमंत्री पद के लिए कोई चेहरा न होने के बारे में पूछे जाने पर केजरीवाल ने कहा, “फिलहाल सबकी चिंता यही है कि वे (BJP) किसी को नहीं छोड़ेंगे।” केजरीवाल ने इस बात पर जोर दिया कि उन्हें उम्मीद है कि विपक्षी गठबंधन दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीट पर जीत हासिल करेगा।

उन्होंने कहा, “AAP और इंडिया गठबंधन की ऐसी लहर है कि मुझे आश्चर्य नहीं होगा कि विधानसभा चुनाव के पिछले रिकॉर्ड, जिसमें हमने (AAP) 67 सीट (2015 में) और 62 सीट (2020 में) जीती थीं, टूट जाएं।” केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव प्रचार के लिए 10 मई को धनशोधन मामले में 1 जून तक के लिए अंतरिम जमानत दे दी थी।

उन्होंने कहा कि उनकी गिरफ्तारी और जेल दिल्ली के मतदाताओं के लिए एक भावनात्मक मुद्दा है जिससे बीजेपी को नुकसान होगा। केजरीवाल ने कहा कि लोगों में ”जबरदस्त गुस्सा” था और उन्हें लगा कि एक ”अच्छे आदमी” को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा, “हम तानाशाही के बारे में सुन रहे हैं और लोग कह रहे हैं कि उन्हें इस तानाशाही के खिलाफ वोट करना होगा। यह भावना बहुत मजबूत है।”

रिहाई को बताया चमत्कार

केजरीवाल ने जेल से अपनी रिहाई को “भगवान का चमत्कार” बताया और कहा कि इसने लोगों में उत्साह भर दिया है। उन्होंने कहा, “जब मैं प्रचार के लिए जाता हूं तो लोगों की आंखें नम हो जाती हैं।” AAP प्रमुख ने कहा कि उन्हें BJP ने जेल भेजा था, जिसने सोचा था कि इससे उनकी पार्टी टूट जाएगी लेकिन हुआ इसके विपरीत।

ये भी पढ़ें- Pune Accident: पुणे हादसे के आरोपी के परिवार का निकला अंडरवर्ल्ड कनेक्शन, दादा ने छोटा राजन को दी थी पार्षद की हत्या की सुपारी!

केजरीवाल ने कहा, “उन्होंने (BJP) सोचा कि मेरी गिरफ्तारी के बाद अभियान प्रभावित होगा और हमारी पार्टी टूट जाएगी, विधायक टूट जाएंगे और सरकार गिर जाएगी। लेकिन हुआ इसके विपरीत। हमारी पार्टी और अधिक एकजुट हो गई, हमारे नेतृत्व ने एक परिवार की तरह काम किया और जब हमारे कार्यकर्ताओं ने देखा कि उनका नेता जेल में है तो वे और अधिक मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित हुए।” केजरीवाल ने कहा कि AAP की कई अन्य राज्यों में विस्तार करने की योजना है। लेकिन वह फिलहाल लोकतंत्र बचाने के लिए काम कर रही है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *